Sri Lanka becomes South Asia Country to conduct elections in corona panedemic

दक्षिण एशिया में आम चुनाव सम्पन कराने वाला पहला देश बना श्री लंका

श्रीलंका में आम चुनावों में महिंदा राजपक्षे बड़ी जीत की ओर अग्रसर

कोलंबो. वैश्विक महामारी के बीच श्रीलंका में हाल ही संपन्न हुए 16वें आम चुनावों में महिंदा राजपक्षे (Mahinda Rajapaksa) की श्रीलंका पीपुल्स पार्टी (SLPP) एकतरफा बड़ी जीत की और अग्रसर है। देर रात तक मिले परिणामों के अनुसार पार्टी ने अब तक 16 में 13 सीटों पर कब्जा जमा लिया है। देश में सम्पन हुए आम चुनावों में करीब 71 प्रतिशत वोट पड़े थे, जिसमें से गुरुवार सुबह शुरू हुई मतगणना में अब तक 61.16 वोट एसएलपीपी को मिलते हुए दिख रहे है जबकि मुख्य प्रतिद्वंदी सामग्री जाना बलवेगया (एसजेबी) पार्टी को अब तक तीन सीटें मिली हैं।

गौरतलब है कि यह चुनाव उस समय हुए है, जब राष्ट्रपति गोताबाया राजपक्षे ने मार्च के शुरू में 225 सीटों वाली संसद को पांच महीनों के लिए भंग कर दिया था। चुनाव पहले अप्रैल में होने थे लेकिन वैश्विक महामारी के कहर को देखते हुए अब जाकर यह संपन्न हुई। कोरोना महामारी के बीच दक्षिण एशिया में आम चुनावों को सम्पन करने वाला पहला देश है और यह दर्शाता है कि सरकार ने कोरोना वायरस की स्थिति को कितने प्रभावी तरीके से संभाला हैं।

एसएलपीपी ने गल्ले जिले में पड़े कुल वोटों में से 70.54 प्रतिशत यानी 430,334 वोट हासिल कर जिले की सभी 10 सीटों को जीत लिया है तथा 18.93 प्रतिशत वोटों के साथ एसजेबी पार्टी दूसरे नंबर हैं। इसके अलावा जनथा विमुक्ति पेरमुना के नेतृत्व वाली जथिका जन बलवगया को 4.91 प्रतिशत यानी 29,963 वोट मिले है। वही 3.11 प्रतिशत यानी 18,968 वोटों के साथ जनता जनत विमुक्ति परमुना पार्टी चौथे नंबर पर हैं।

पड़ोस के मतारा जिले में भी एसएलपीपी 352,217 मतों के साथ सभी 7 सीटें जीत गई है जबकि एसजेबी 72,811 मतों के साथ दूसरे स्थान पर है। देश की राजधानी कोलोंबो जिले में भी एसएलपीपी की टक्कर में कोई नहीं है और 70.83 प्रतिशत मतों के साथ पार्टी यहां भी सबसे आगे हैं। कोलंबो में हालांकि अभी भी मतों की गिनती जारी हैं और नतीजों की घोषणा होनी बाकी हैं।

मोदी ने दी बधाई : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीलंका में सफलतापूर्वक संसदीय चुनाव कराए जाने को लेकर वीरवार को श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे को बधाई दी। मोदी ने कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के बावजूद प्रभावी ढंग से चुनाव आयोजित करने के लिए श्रीलंका की सरकार और चुनावी संस्थानों की प्रशंसा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *