Loudspeakers at border

पढ़ें आर्मी का ध्यान भटकाने को कैसे-कैसे पैंतरे अपना रहा चीन… Loudspeakers at Border

नई दिल्ली. घुसपैठ की कोशिश को नाकाम किए जाने और पूर्वी लद्दाख में ऊंचाई वाली जगहों पर भारतीय सेना के फतह से बौखलाए चीन की पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी (PLA) पैंगोंग झील के पास फिंगर 4 पर ने बड़े-बड़े लाउड स्पीकर लगाए हैं (Loudspeakers at Border) और उसमें पंजाबी गाने बजाने शुरू कर दिए हैं। चीन की यह चाल भारतीय जवानों के ध्यान को भटकाने के लिए है। चीन ने फिंगर 4 पर अपनी जिन फ्रंट चौकियों पर लाउड स्पीकर लगाए हैं, वह भारतीय सेना की 24 घंटे निगरानी में है। 

संभावना जताई जा रही है कि भारतीय जवानों की लगातार निगरानी से परेशान होकर चीनी सैनिकों ने यह ड्रामा उनका ध्यान भटकाने के लिए किया है। यह जगह वही है जहां हाल ही में 8 सितंबर को दोनों देशों के सेनाओं के बीच करीब 100 राउंड हवाई फायरिंग हुई थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने 1962 में जिस रणनीति को अपनाया था, अब फिर से उसी पर काम कर रहा है।

भारतीय सेना के एक पूर्व प्रमुख के मुताबिक, पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी ने ठीक इसी तरह लाउड स्‍पीकर रणनीति का इस्‍तेमाल साल 1962 और 1967 में नाथु ला झड़प के दौरान किया था। उन्‍होंने कहा कि चीन को लगता है कि फिंगर 4 पर पंजाबी सैनिक तैनात हैं।  

दरअसल, 29-30 अगस्‍त को पैंगोंग झील के दक्षिणी तट पर भारतीय सेना द्वारा रेजांग ला और रेचिन ला में चीनी सेना को मुंहतोड़ जवाब देने के बाद चीनी सेना सबसे पहले टैंक और बख्‍तरबंद सैन्‍य वाहन लेकर आई थी। पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी को लगा कि उसके इस गीदड़भभकी से भारत के जवान डर जाएंगे और पीछे हट जाएंगे, मगर ऐसा नहीं हुआ और भारत के जवान डटे रहे। भारतीय सेना ने स्‍पष्‍ट कर दिया कि अगर चीनी सेना ने रेड लाइन को पार किया तो वह इसका मुंहतोड़ जवाब देगी।

घुसपैठ की कोशिश के नाकाम होने के बाद चीनी सेना ने नया पैंतरा आजमाया और पैंगोंग झील के फिंगर 4 पर पंजाबी गाना बजाना शुरू कर दिया। इसके अलावा, चूसूल में चीनी सेना के मोल्‍डो सैन्‍य चौकी पर भी लाउड स्‍पीकर लगाए गए हैं। इन पर चीनी सेना की ओर से कहा जा रहा है कि भारतीय सेना अपने राजनीतिक आकाओं के हाथों मूर्ख न बने। इन लाउडस्पीकर के जरिए चीनी सेना अब भारतीय जवानों को यहां की सरकार और नेताओं के खिलाफ भड़काने की नापाक कोशिश में जुटी है। चीनी सैनिक इन लाउड स्पीकर के जरिए भारतीय सेना को भड़काने और उनके मनोबल को तोड़ने की कोशिशों में जुटे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *