IPL : स्पांसरशिप से बाहर हुई चीनी मोबाइल कंपनी वीवो 5 साल के करार के लिए दिए थे 2,000 करोड़ रुपये

नई दिल्ली. चीनी मोबाइल कंपनी वीवो के इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के अगले एडिशन में लीग स्पॉन्सर होने के विवाद पर आज विराम लग गया। अब वीवो लीग स्पॉन्सर नहीं होगी। खबर आ रही है कि आईपीएल 2020 के लिए वीवो कंपनी ने स्पॉन्सरशिप टाइटल से अपना नाम वापस ले लिया है। वीवो सिर्फ इस वर्ष के लिए आईपीएल 2020 के स्पॉन्सरशिप टाइटल से हटा है। पहले ऐसी खबर आई थी कि आईपीएल 2020 की सभी फ्रेंचाइजी ने भी वीवो को हटाए जाने की बात कही है। वीवो कंपनी को स्पॉन्सरशिप टाइटल के लिए इस वर्ष 440 करोड़ देने थे। अगर वीवो के स्पॉन्सरशिप से हटने की बात सही निकली तो बीसीसीआई के सामने नए टाइटल स्पॉन्सरशिप को ढूंढना मुश्किल हो सकता है।

दरअसल रविवार को आईपीएल गवर्निंग काउंसिल ने आईपीएल में चाइनीज मोबाइल कंपनी की स्पांसरशिप जारी रखने का ऐलान किया, जिस वजह से आलोचना शुरू हुई। उधर, सोशल मीडिया पर लोग क्रिकेट लीग का बहिष्कार करने की अपील कर रहे हैं।  उल्लेखनीय है कि चीनी मोबाइल फोन निर्माता कंपनी वीवो इस टी-20 लीग की ‘टाइटलÓ प्रायोजक है। वीवो ने पांच साल के इस करार के लिए बीसीसीआई को 2,000 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *